~ साये…

 

fullsizeoutput_e30

 

साये ये रात के साये,

कहाँ ले आए हमें ये रात के साये,

घनेरे कलेरे डरे डरे से ये घबराये,

ओड़ चादर फटी ये ठुकराये,

ये साये रात के

 

बिना बात कभी पीछे पड़े,

धुआँ उड़ाते, चेहरा छुपाते, लड़खड़ाते,

गिरते गिरते से, सम्भलते से, डगमगाते,

दूर से झाँकते, क़रीब आ सो जाते,

हाय ये राते के साये

 

एक सच को छिपाए हुए,

बिन बुलाये ये आये हुए,

एक मरियल लकीर से, फ़क़ीर से,

भूख से लिपटे, कालिख से चिपटे,

ये काले काले साये

 

आमने, सामने, घूमते गोल गोल,

कभी बैठे, कभी खड़े, मुँह खोल,

जैसे अभी ये जाएँगें निगल,

वो पहली किरण, इनका आख़िरी शंड़,

और रह जाती ना जाने वाली, काली रात

 

हाय, ये काली के रात के साये

~ इत्तफ़ाक़…

Coincidence

Picture Credit : Google Images

 

पड़ गया मेरे आराम में आज फिर खलल पड़ गयाफिर बैठे बैठे हुआ खड़ा आज फिर मन बदल गया,

चलने ही वाला था पर जैसे ही उठाया पहला कदमपिछले वाला अगले वाले से बेवजह ही लड़ गया

 

नीली पतलून, पिली क़मीज़ अंदर सफ़ेद बनियानजूता पहना भुला जुराब, साली किस्मत है ही ख़राब,

घुमा, मुड़ा और जैसे तैसे चल पड़ा देखा बटुआ पड़ाकिसका है ? मेरा तो हैं नहीं, बटुआ था तस्वीरों भरा

 

कल ली थी रेल की टिकट घूमने जाने को कहींजाने क्यों अब कहीं जाने का बिलकुल मन नहीं,

क्या करूँ, क्या नहीं, फाड़ा टिकट उतारी जैकेट,  उतारा जैसे ही जैकेट गिरा उसमें से एक पैकेट

 

पैकेट में थी नाटक की टिकट, नाटकइत्तफ़ाक़”, डिरेक्टर बेबाक़, ऐक्टर तपाक, क्रू फटफट फ़टाक,

ऑडीयन्स में भी जोश था, बस, दरबान ख़ामोश थापूछा तो बोला, बेटा था ना रहा, तस्वीरें थी अब वो भी नहीं

 

याद है ? बटुआ तस्वीरों से भरा, उठाया था, बताना भुल गयाउसकी ख़ुशी का ठिकाना ना रहा, होश था अब जोश था,

बेटा, उसका लड़खडाता था, ठीक से चल ना पाता थाशौंक उसे सिर्फ़ तस्वीरों का था, “इत्तफ़ाक़ये तक़दीरों का था

~ घुसपैठिया…

~ घुसपैठिया…

मेरे दिल को वो अपना है घर कर बैठा,
सामान मेरा सब इधर उधर कर बैठा,
ना चाबी लगायी ना तोड़ा उसने ताला ,
ना जाने कैसे है वो बसर कर बैठा…
घुसपैठिया…

ना उठाया मुझे ना मुझको जगाया मुझे,
ना चीख़ा पुकारा, ना आवाज़ लगायी,
ना जाने कैसे तय वो ये सफ़र कर बैठा,
वो रुख़ कैसे अपना इधर कर बैठा है…
घुसपैठिया…

मेरे तकिए पे वो अपना सर कर बैठा,
अलमारी में मेरी अपनी बुशर्रत टाँग के,
पतलून को मेरे कुर्ते की नज़र कर बैठा,
कैसे वो इस घर को अपना घर कर बैठा…
घुसपैठिया…

मेरे पसीने को अपना इत्र बनाके, उसको लगाके,
वो ख़ुशबू को मेरी है अपनी ईत्र कर बैठा है,
बरामदे में मेरे उसने अपनी चारपायी बिछायी,
मेरी रातों की नींद में अपनी वो सहर कर बैठा…
घुसपैठिया…

मेरी माँ को वो अम्मी है कह कर बुलाता,
मेरे डैडी को अपना फ़ॉदर कर बैठा है,
ख़ुद मेरी जान मुझको जानेजिगर कर बैठा,
मेरी कश्ती में तैर वो सारा सफ़र कर बैठा…
घुसपैठिया…

वो बारिश में अपनी मुझे तर-बतर कर बैठा,
वो आलू और मुझको है मटर कर बैठा ,
मैं बिखरी हुई थी वो मुझको बाहों में लेके,
गुम थी कहीं मैं, मुझको वो ताज़ा ख़बर कर बैठा…
घुसपैठिया…

~ Cham Cham Chew…

I chew, chew; Cham Cham chew,

Sometime Cham then squeak, rumble and whomp; yes I chew…

 

I Chewed the nails; while in my deep thoughts,

The  end of a pencil; to solve a puzzle…

 

I Chewed few books ; om nom nom some I tasted,

some swallowed and some I digested…

 

I chewed Tobacco and a pipe;when my world was wild and ripe,

Once I met a whore; chewed her brains as I chewed her soul…

 

I even chewed my thoughts,

Wondered, pondered  till my body soared with adrenaline rush…

 

Next time you find me chewing, remember!

do not chastise me; after all, it is my body at work…

 

Knowing that chewing helps thinking,when the thinking gets hard;

I chew, chew; Cham Cham chew…

I chew my brain…

~ Shhh…

Yellow light, passing through pellucid crystal glass,

the serenity and sound of silence, hallelujah!..the Shhh…

 

Flimsy air, a delicate fondle, touched her hair,

the morning herd, Sunday prayer, mass…the Shhh…

 

Magically orchestrated, brick by brick, her body,

two awning windows, bordered red, lips…the Shhh…

 

An elbow prod, the tingle the prickle, a silent moan,

latched eyes, stripped we canoodled, drip…the Shhh…

 

Hazelnut eyes, fiery touch, cuddled sheets,

light shimmered on her, we screamed, more…and the Shhh…

~ शमशान…

 

मेरे घर के रास्ते में शमशान है, 

बेदर्द रोज़ लेता किसी की जान है,

आदमी को मिट्टी में मिला देता है,

सबको उनकी औक़ात दिखा देता है…

 

कभी भीड़ तमाम कभी दो चार आदमी,

बता देता है किसकी कितनी जान-पहचान है,

लौट जाते हैं फिर किसी रोज़ लौट आने को,

भूलना ही पड़ता है सच साँस चलाने को…

 

लटका चेहरा, दर्द गहरा, वक़्त ठहरा सा,

दो चार दिन, कुछ और ग़म, हर कोहरा छट जाता है,

आज किसी अपने को, कल किसी के अपने को,

छोड़ना वहाँ आता है, फिर काम में लग जाता है…

 

शमशान की इस बात पर मगर हँसी आती है,

उसके ठीक सामने एक हस्पताल भी हैं,

वहाँ से जान आती है यहाँ से चली जाती है,

ज़माने भर की फ़िक्र, बीच का का सफ़र, गोल सिफ़र…

 

शमशान के बग़ल में मुर्दाघर भी हैं,

दोनों की आपस में अच्छी बनती हैं,

जो एक में जलती है दूसरे में दफ़नायी जाती है,

राख मिट्टी की फिर मिट्टी में मिलायी जाती है…

 

हस्पताल और दोनों के बीच मैं एक सड़क है,

और एक चाय की दुकान, एक स्कूल, एक मयखाना हैं,

तीनों में एक चीज़ बड़ी अच्छी हैं,

देख लगता हैं वहाँ, दुनियाँ में सिर्फ़ ये तीनों सच्ची हैं…

 

सड़क के दूसरी ओर, इबादत और पूजा घर हैं,

आदमी अन्दर कुछ और बाहर कुछ और होता है,

लूटता है किसी को तो कभी खुद लूट जाता है,

फिर सड़क के उस पार जा चैन की साँस सोता है…

 

~ एक BAR…

Twinkle twinkle little stars,

I see, when I walk out of the bar,

All in pair, broken beyond repair,

no-one gives a thought, forget care…

भैया, दीदी, भूख लगी है कुछ खिला दो,

हमने किसी का क्या बिगाड़ा है, बता दो

 

…here he comes…

 

Trying , walking straight, swaying but didn’t fall,

Pushes himself in the car, he’s okay not drunk at all,

पीछे से वो आवाज़ लगाते है, बुलाते है,

आपके तो यहाँ रोज़ आते है, हम रोज़ भूखे सो जाते है

 

His morning is fine, a little head spin,

vomit maybe or a little puke in the bin,

और वो रात की आवाज़ फिर आती है,

तुम्हें प्यास और भूख हमें रोज़ सताती है

 

Nothing much comes to mind for rest of the day,

Evening, drives his car back to the bar…

ये एक-Bar की बात नहीं, हर bar की कुछ ऐसी ही कहानी है,

भूख निगलतेनिगलते भूख निगल जाती है जिनको, कुछ बच्चे ऐसे भी पलते हैं

~Besotted…

Feeling free like a kite, swaying left and then right,

He was a man so drunk, never ate no chunk,

Quite he kept, all alone he wept, stood like a tree,

His body was drowned, burnt and buried, soul he exhumed,

Wandering through the labyrinth of steep and dirty streets,

On stairs he stayed, in parts he lived, stripper, the girl he missed,

Love he had, love he gave, all of it, every bit

She left him, naked, all stripped, of love, all bit…

~ अख़बार…

 

सुबह की गरम चाय ने आज जैसे ही तलूये को छूआ, इक हलकी सी जलन का एहसास हुआ…

ठीक उतना ही…

जितना दिल का टुकड़ा बचा है, बाक़ी तो सब जला दिया था तुमने…
उतनी जितनी आस बाक़ी छोड़ी थी तुमने, सब उम्मीदें मिटा देने के बाद…

ठीक उतना ही…
जितनी ख़ुशी रह गयी थी यादों में लिपटी, बाक़ी सब तुम्हारे साथ लपेट भेजी थी…
जितना तल्ख़ पर रह गया था स्वाद तुम्हारे होंठों का, बाक़ी सुखी छोड़ दी थी तुमने ज़मीन…

ठीक उतना ही…
जितना सपनों में तुम्हें देखना बाक़ी रहा, तस्वीर तक तो कोई नहीं छोड़ी तुमने…
जितनी फ़िक्र रही तुम्हें मेरी, अपनी सारी फ़िक्र तुम छोड़ गए थे मेरे पास…

बस एक ख़लिश ही मेरी पूरी रही, बाक़ी की ठंडी चाय की तरह, जिसे बड़े ही आराम से सुबह के अख़बार के साथ रोज़ पीती हूँ…

 

~ Ohh life…

 

Ohh life…

I remember meeting you once, just across the street;

You looked as lively as a squirrel

Little to your knowledge I saw you walking;

Jumping, hopping long miles with criss crosses along your side

Your tiny little feet and petite hands;

two rubber bands and that mischievous smile

Bought back the meaning to my life;

Rejoiced, for my soul was alive

Times passed by and for once, I met you again;

Your were withered in despair

You found a knife and it didn’t miss you;

And Alas! You were gone

You cut the vein; as you couldn’t endeavour the pain

There was flood, a flood of blood, You were red,

DROP by drop, you ceased and came to a full STOP…