~ आलोचना…

alochana

~ आलोचना

जब करो तुम कोई वजह से किसी की भी आलोचना,

रोक लेना जिह्वा को अपनी और दिल से इतना सोचना

 

की तुम में कितनी खूबियां है तुम में कितने दोष हैं,

लेना पकड़ कोना कोई और आँखों को अपनी मूँद कर,

अपनी सिमटी समझ की खिड़कियों को देना खोल तुम,

और सोचना, उठा भी पाओगे क्या अपनी कमीयों का तोल तुम

 

कितना आसान चीनीनुक्ता और अपनी कथनी को कहना पुख्ता,

है बड़ा कठिन सुनना लगा कान और अपनी गलती को लेना मान,

इक धक्का सा लग जाता है जब दोष कोई गिनवाता है,

अपने दोषों की गठरी छुपाने को अफवाहें फिर फैलाता हैं

 

ये अफवाहेंसुखी, तीखी, लाल मिर्च सी होती है,

और हवा का रुख जब पलटता अपनी ही आँखें रोती हैं,

तेरा जायेगा तेरे संग और तू अपने करम की ही खायेगा,

कर के दूजों की बुरीभली तू किसी की आँख ना भायेगा

 

वो जो इधर उधर की खाता है और अफवाहें फैलाता है,

वो किसी का कैसे हो सकता हैं जो बातों की आग लगाता हैं,

ये जिव्हा, गुड़मिश्री की ढेली हैं ये तेज़तीखी तलवार भी है,

ये कड़वा ज़हर का घूँट कभी और करोड़ों का व्यापार भी हैं

 

रोक लेना जिह्वा को अपनी बस दिल से इतना सोचना,

करने लगो आलोचना, अब जो करने लगो आलोचना…

 

Picture : Google Images

~ Crescent…

IMG_1645.jpg

And they started to walk together…

they walked in a straight line which had highs and lows,

as if the road was trying to match their heartbeat,

an up and a down, an up and a down…

 

In between they held their hands,

the cold breeze numbed his hands,

almost frozen and they needed to be warmed,

brush of their palms was just enough to give him a slight current,

and their hearts spoke to each other, enhancing the  warmth…

 

The sun wasn’t that bright,

but this pancake layer of moon was visible,

the shape wasn’t perfect round,

as if…

they both had taken a bite and made it a waxing crescent.

White pancake perfectly placed on this big blue plate,

it was their first day-moon moment together…

~ आयिना…

~ आयिना...

ये काग़ज़ पलट के तुम क्या देखते हो,

जला देखते हो या कुछ बचा देखते हो...


तुम्हारी वो आदत अब भी बदली नहीं है,

ख़ुद को तुम वैसा दूजे को बदला देखते हो...


तुम्हें याद है बचपन में तुम थे एक सीधी लकीर,

फ़र्क़ इतना कि अब तुम सबको टेड़ा देखते हो...


ये बात बात पर तुम्हारा भोंहें चड़ाना,

तुम ख़ुद को आसमान हमें ज़र्रा देखते हो...


देखा है तुमको कोड़ियों को घूर कर ताकते,

क्यों तुम ख़ुद को सोने चाँदी से जड़ा देखते हो...


तुम्हें ना बारिश से लेना ना पतझड़ को देना,

तुम हमें सूखा पीला, ख़ुद को हरा-भरा देखते हो...


हम भरी महफ़िल में सिर्फ़ तुम्हें देखते हैं,

और तुम हमें देख बस यहाँ वहाँ देखते हो...

Image credits- Vitaliy Deynega

ये दुनियाँ है जाला और हम सब हैं मकड़ी,

है मुहब्बत आज़ादी तो ख़ुद क्यूँ जकड़ा देखते हो...


तुम थिरकती रेलगाड़ी हमें समझो पटरी,

क्यूँ हमारे वजूद को तुम ख़तरा देखते हो...


जो ज़िंदगी कहानी हम तुम उसके किरदार,

एक क़िस्सा मेरा एक तेरा, तुम सिर्फ़ पड़दा देखते हो...


कुछ तुमने बनाया कुछ हमने पिरोया,

तुम अपना बनाया हमारा उजड़ा देखते हो...


अब इसके भी आगे, और कुछ क्या कहूँ मैं,

सच कहना, क्या कभी तुम आयिना देखते हो...



Photo Credits :-

‘Love,’ by Ukrainian sculptor Alexander Milov

Image credits: Vitaliy Deynega

~ ऐब…

~ ऐब…

चलो आपबीती सुनाता हूँ तुम्हारा दिल बहलाता हूँ,
ऐसे वैसे जला हूँ मैं तो थोड़ा तुम्हें भी जलाता हूँ…

मेरे सपनों में रोज़ाना एक कली खिला है करती,
तुम ज़रा मुस्कुराओ तो मैं इक गुलाब खिलाता हूँ…

निकल जाना तो है आसान मैं थोड़ा और उलझाता हूँ,
तुम ठुकराओ चलो मुझको तुम्हें मैं फिर मुँह लगाता हूँ…

तुम्हारे बालों का ये गुच्छा तुम्हारे गालों की लाली,
कभी बालों को सहलाऊँ कभी गालों से गाल लगाता हूँ…

तुम कंधे पे रखना सिर मैं सिर से सिर मिलाता हूँ,
जो लगे जहान है सुना-सुना रुको मैं कुछ गुनगुनाता हूँ…
“के तू किसी रेल सी गुज़रती है…”

और उसपर…
आधी रात हो झमाझम बरसात हो पानी पानी चारों ओर,
तुम हिलना मत तुम्हें बाहों में ले के मैं तुम्हारे संग नहाता हूँ…

मुझे तुम याद रखना बस जैसे भी तुम्हें मैं याद आता हूँ,
शराफ़त छोड़ दो अब तुम मैं तुम्हारा ऐब बन जाता हूँ…

~ आँच…

IMG_0643

सुनो आँच ज़रा धीमी कर दो, चावल देर से पकेंगे,

और हम कुछ और देर तलक साथ लिपट लेंगे

कुछ कहना नहीं, आज तुमने फिर पाज़ेब को पहना नहीं,

चावलों को धीरेधीरे पकने दो, कुछ और देर सर रखने दो

थोड़ा सा होंठों में फाँसला करो, जो जगह मिलेगी,

आज कच्चे चावल खिला देना, मेरे होठों को चबा देना

बीचबीच में आँखें मुँदना, आज चावलों का पानी पिला देना,

तुम कूदना और मुझे फाँदने की वजह देना

आज ख़्वाब सज़ा लेते है, रहने दो चावल, रात भर पका लेते है,

पकने दो उन्हें भी, जगने दो हमें भीसहर तक, दोपहर तक

 

~ घुसपैठिया…

~ घुसपैठिया…

मेरे दिल को वो अपना है घर कर बैठा,
सामान मेरा सब इधर उधर कर बैठा,
ना चाबी लगायी ना तोड़ा उसने ताला ,
ना जाने कैसे है वो बसर कर बैठा…
घुसपैठिया…

ना उठाया मुझे ना मुझको जगाया मुझे,
ना चीख़ा पुकारा, ना आवाज़ लगायी,
ना जाने कैसे तय वो ये सफ़र कर बैठा,
वो रुख़ कैसे अपना इधर कर बैठा है…
घुसपैठिया…

मेरे तकिए पे वो अपना सर कर बैठा,
अलमारी में मेरी अपनी बुशर्रत टाँग के,
पतलून को मेरे कुर्ते की नज़र कर बैठा,
कैसे वो इस घर को अपना घर कर बैठा…
घुसपैठिया…

मेरे पसीने को अपना इत्र बनाके, उसको लगाके,
वो ख़ुशबू को मेरी है अपनी ईत्र कर बैठा है,
बरामदे में मेरे उसने अपनी चारपायी बिछायी,
मेरी रातों की नींद में अपनी वो सहर कर बैठा…
घुसपैठिया…

मेरी माँ को वो अम्मी है कह कर बुलाता,
मेरे डैडी को अपना फ़ॉदर कर बैठा है,
ख़ुद मेरी जान मुझको जानेजिगर कर बैठा,
मेरी कश्ती में तैर वो सारा सफ़र कर बैठा…
घुसपैठिया…

वो बारिश में अपनी मुझे तर-बतर कर बैठा,
वो आलू और मुझको है मटर कर बैठा ,
मैं बिखरी हुई थी वो मुझको बाहों में लेके,
गुम थी कहीं मैं, मुझको वो ताज़ा ख़बर कर बैठा…
घुसपैठिया…

~ Shhh…

Yellow light, passing through pellucid crystal glass,

the serenity and sound of silence, hallelujah!..the Shhh…

 

Flimsy air, a delicate fondle, touched her hair,

the morning herd, Sunday prayer, mass…the Shhh…

 

Magically orchestrated, brick by brick, her body,

two awning windows, bordered red, lips…the Shhh…

 

An elbow prod, the tingle the prickle, a silent moan,

latched eyes, stripped we canoodled, drip…the Shhh…

 

Hazelnut eyes, fiery touch, cuddled sheets,

light shimmered on her, we screamed, more…and the Shhh…

~ हस्ब-ए-ज़रूरत…

 

भरी महफ़िल में सिर्फ़ मेरा जाम ख़ाली है,
ये कैसी खुन्दक तुमने सरेआम निकाली है…

दो चार को जानता हूँ बाकी चेहरे नए हैं,
बिन बुलाये आये हैं या सब बुलाये गए हैं…

हमको तो लगा घर आना है हम वैसे ही आ गए,
ये कुछ खास हैं जो सब चमक-धमक के आ गए…

अर्रे वाह, वहाँ तो खूब दस्तरख्वान सजाया है,
लगता है तुमने हमें यूँ ही ज़बरदस्ती बुलाया है…

आज देखा दरवाज़े पर तुमने मेहमान-नवाज़ी की,
हमसे क्या खता हुई जो हमसे नज़र-अंदाज़ी की…

सुना था तुम्हारे मेहमानों को कानों-कान फुसफुसाते,
कि दोस्त भी अब तुम बिना मतलब के नहीं बुलाते…

बता देते तो हम गुज़रे सालों के एल्बम उठा लाते,
शायद ऐसे ही हम महफ़िल में तुम से मिल पाते…

सुना था “आप कहें और हम ना आए ऐसे तो हालात नहीं”
लगता गलती से है न्योता भेजा, अब वैसी कोई बात नहीं…

 

~ चश्मा…

सारा आसमान सर पर उठा रखा है,

ना मालूम मैंने चश्मा कहाँ रखा है,

दो आँखों से ज़माना बहुत देख लिया,

दो और लगा ताज़ा नज़र को रखा है…

 

काश दिल भी दूसरा लगा सकता मैं,

पहले वाला तो टूट के बिखर रखा है,

एक तकिया इधर एक उधर लगाया है,

तुम नहीं हो तुम्हारी याद पे सर रखा है…

 

तुमने जाते जाते जो बात कही थी मुझसे,

अब तलक उसी बात को पकड़ रखा है,

तुम्हें याद है तुमने जो बीज बोए थे,

फूलों ने उनकी की सारा शहर महका रखा है…

 

रात अंधेरी में कोई भटक ना जाए कहीं,

इसलिए चाँद को दिया बना रखा है,

और तो ओर तुम्हें सुन के हैरानी होगी,

तुमको चाँद, ख़ुद को दाग़ बना रखा है…

 

कहने वाले तो यहाँ तक कहते है,

मैंने ये ख़ुद को क्या बना रखा है,

अब उन्हें कैसे बताऊँ, समझाऊँ क्या,

मैंने तुममें ख़ुद को सजा रखा है…

 

मिल गया चश्मा सर पे लगा रखा था,

यूँ ही सारा आसमान सिर पे उठा रखा था,

नज़रें ज़मीन पर, चश्मा तुम्हें तारों में धूँड रहा था,

मैंने तुममें अपना सारा जहाँ रखा था…

~Besotted…

Feeling free like a kite, swaying left and then right,

He was a man so drunk, never ate no chunk,

Quite he kept, all alone he wept, stood like a tree,

His body was drowned, burnt and buried, soul he exhumed,

Wandering through the labyrinth of steep and dirty streets,

On stairs he stayed, in parts he lived, stripper, the girl he missed,

Love he had, love he gave, all of it, every bit

She left him, naked, all stripped, of love, all bit…