~ चल तू-तू मैं-मैं करते हैं…

~ चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

फिर धर्म के नाम पर मरते हैं

चल बहस करें बे सिर-पैर की

लाशों के ढेर लगाते हैं

इज़्ज़त की उड़ा धज्जियाँ

कारों और बसो को जलाते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं…

क्या खाया क्या पहना जाए

इसकी एक लिस्ट बनाते हैं

शहरों के नाम बदलते है

कुछ दंगे नए भड़काते है

पड़ोसी को देख जले पड़ोसी

भाई को भाई से लड़ाते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं…

चल देश विदेश की सैर करें

देखें सब आपस में बैर करें

कुछ पुतले नए बनाते है

कुछ बच्चों को भड़काते हैं

चल हरे को भगवा चढ़ाते है

दिलों में आग लगाते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं…

आया है मौसम चुनाव का

अब मुद्दे नए बनाते हैं

ये जनता तो बेचारी है

चल चुना इसे लगाते हैं

बातों में इसे फँसाते है

कुछ सपने नए दिखाते है

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं…

आपस में बिन बात के लड़ते है

छलकपट, दांवपेच लगाते है

माँगें जो पुराना हिसाब कोई

इतिहास में उसे फ़साते हैं

ऐशोआराम से हमको काम,

पहले वोट, फिर जेबों को भरते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं

चल तू-तू मैं-मैं करते हैं…

Advertisements

~ शर्त लगाता हूँ…

ना मालूम वो मंदिर था या मस्जिद जो गिरायी गयी थी,

शर्त लगाता हूँ एक दीवार थी जो हमारे बीच उठायी गयी थी

 

सोची समझी साज़िश थी जम्मू से कश्मीर की दूरी बड़ाने की,

शर्त लगाता हूँ असल बात थी भाई को भाई से लड़वाने की

 

उस हादसे ने हलवेसेंवई की अदला बदली पर पाबंदी लगा दी,

शर्त लगाता हूँ बिना पड़े उन्होंने रामायण से क़ुरान भिड़वा दी

 

सब हट्टेकट्टे है और एक ही थाली के चट्टेबट्टे हैं,

शर्त लगाता हूँ ये वो अंगूर हैं जो एकदम खट्टे हैं

 

ग़रीबी हटाएँगे”, “लोकपाल लाएँगें”, “मंदिर वहीँ बनायेंगे”,

शर्त लगाता ये सालों तक ऐसे ही हमें चूना लगायेंगें

 

राजनीती के चक्कर में ये आज भी नफरत का सीड बो रहें हैं,

शर्त लगाता हूँ राम और अल्लाह अपना सर पकड़ के रो रहें हैं….