~ बंदा…

~ बंदा

कुछ लोग कभी तन्हा नहीं होते,

जिस गाह होते है, उस गाह नहीं होते

घुटनोंघुटनों दर्द में घसे होते हैं,

घुटते हैं मगर फना नहीं होते

हारजीत के हंगामों से दूर रहते,

बेकार मुद्दों के वो दरमियाँ नहीं होते

दिलग़मआशना बखूबी छुपा लेते हैं,

कभी भी, कहीं भी, यूँ ही बरहना नहीं होते

शक्सियत से लापरवाह ज़रूर होते है,

मगर वो बेपरवाह नहीं होते

इल्मअदब,इल्मकलम के बादशाह,

किसी तख्तोताज के शहंशाह नहीं होते

मंदिर मस्जिद की जानिब से गुज़रते ज़रूर,

मगर जनाब ये हिन्दूमुस्लमान नहीं होते

करीबकरीब ख़ामोश से होते हैं,

मगर बेज़ुबान नहीं होते

सवाल का जैसे दुरुस्त जवाब हों,

वो कोई अंदाज़ा नहीं होते

खैर मनायें के ऐसे लोग चन्द होते हैं,

मलाल भी रखें कि बेइन्तिहाँ नहीं होते

Advertisements