~ काना-फुसियाँ…

~ काना-फुसियाँ…

चल चलें कहीं, फिर करें वही,

काना-फूसियाँ…

मैं दूँ उधेड़ कुछ, देना उसे तू बुन,

हाँ वही, काना-फूसियाँ…

बंद किताब में, सूखे गुलाब सी,

काना-फूसियाँ…

मैं आऊँ देर से, तू लेना मेरा बहाना सुन,

फिर करें काना-फूसियाँ…

हाँ रूठ जाने की, फिर मनाने की,

काना-फूसियाँ…

घड़ी की सुई जैसे, बारह पे जाए अटक,

और करें वही, काना-फूसियाँ…

मौसमी बुखार सी, यूँ ही बेकार सी,

तेरी मेरी काना-फूसियाँ…

यादों को बनाए कड़ी, बातों की पकोड़ियां भरी,

हाँ वही, चटपटी, काना-फुसियाँ…

चल चलें वहीँ, और करें वही,

काना-फूसियाँ…

One thought on “~ काना-फुसियाँ…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.