~ दिल्ली…

delhi..png
Google Images “no copyright infringement is intended”
 
पुरानी दिल्ली की नयी सड़क,
शोख़ियाँ, अन्दाज़, ख़ूब तेरी तड़क भड़क,
दिल्ली पुरानी की नयी सड़क…
 
बल्लीमारा, फ़तहपुरी, क़ुचा-ए-नील,
लहंगें, ज़री, ज़रदोज़ी ये गाइड-कुंजियाँ,
नल्ली नहारी, पराँठे, कुलचे तेरे जामुन-ए-गुलाब,
गोल जलेबी सी तेरी गलियाँ लाजवाब…
 
ताँगे, रिक्शे, गाड़ियाँ, स्टेशन की भीड़,
कोठे, जिस्म, भूख और के लाचारी ग्राहक,
कभी आयें चखने मद-मय-हुस्न खाने,
बस क़ीमत चुकायें यहाँ रिश्ते नहीं निभाने…
 
चौक चाँदनी पाँचवाँ चाँद, बावली खारी,
क़िला-लाल, बाज़ार उर्दू, नीम-हकीम, और
गली क़ासिम जान, ग़ालिब की हवेली जहाँ,
मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, गिरिजा साथ रहते यहाँ…
 
पुरानी दिल्ली की नयी सड़क,
शोख़ियाँ, अन्दाज़, ख़ूब तेरी तड़क भड़क,
तू – दिल्ली पुरानी की नयी सड़क…
 

~ धर्म…

दो ही धर्म है

अमीर होना या ग़रीब होना,

होना बदनसीब या ख़ुशनसीब होना

उनसे दूर होना या उनके करीब होना,

सब जैसा होना या अजीबो गरीब होना

होना आबाद या निस्तोनाबाद होना,

किसी के बस में या बिलकुल आज़ाद होना

टहनी से लटका या गिरा हुआ फल होना,

ताज़ा आज या गुज़रा हुआ कल होना

सड़क का कंकर या मील का पत्थर होना,

भला चंगा होना या बद से बदत्तर होना

भोलाभाला होना या तेज़तर्रार होना,

काम का होना या बिलकुल बेकार होना

गोराचिट्टा होना या अँधेरी रात सा,

या इस जात का उस जात का

दो ही धर्म है

बाकी सब पहनावे हैं,

बहकाने के छलावे हैं…