~ ऐब…

~ ऐब…

चलो आपबीती सुनाता हूँ तुम्हारा दिल बहलाता हूँ,
ऐसे वैसे जला हूँ मैं तो थोड़ा तुम्हें भी जलाता हूँ…

मेरे सपनों में रोज़ाना एक कली खिला है करती,
तुम ज़रा मुस्कुराओ तो मैं इक गुलाब खिलाता हूँ…

निकल जाना तो है आसान मैं थोड़ा और उलझाता हूँ,
तुम ठुकराओ चलो मुझको तुम्हें मैं फिर मुँह लगाता हूँ…

तुम्हारे बालों का ये गुच्छा तुम्हारे गालों की लाली,
कभी बालों को सहलाऊँ कभी गालों से गाल लगाता हूँ…

तुम कंधे पे रखना सिर मैं सिर से सिर मिलाता हूँ,
जो लगे जहान है सुना-सुना रुको मैं कुछ गुनगुनाता हूँ…
“के तू किसी रेल सी गुज़रती है…”

और उसपर…
आधी रात हो झमाझम बरसात हो पानी पानी चारों ओर,
तुम हिलना मत तुम्हें बाहों में ले के मैं तुम्हारे संग नहाता हूँ…

मुझे तुम याद रखना बस जैसे भी तुम्हें मैं याद आता हूँ,
शराफ़त छोड़ दो अब तुम मैं तुम्हारा ऐब बन जाता हूँ…

~ आम…

 

फलों के राजा आम ने कुछ खास करने का तय किया,

छोड़ा पेड़ और किया प्रस्थान, कर दिया उसने ऐलान

अब आम, आम नहीं रहा वो एकदम खास हो गया,

अब आम, आम नहीं रहा वो वो इलीटक्लास हो गया

शहर के बीचोंबीच उसका अब अपना एस्टेट था,

अपॉइंटमेंट के बाद भी मिलने को करना पड़ता उसका वेट था

 

इन सब आम की किस्मों में एक किस्म पहले से ही थी खास,

मोर इक्वल दैन अदर्स वो, उसके सामने सब इक्वली बकवास

खास एंड प्रीमियम किस्म ने सोचा अब थोड़ा बदलाव लाया जाए,

सबसे उमदा क़िस्म का नाम गुरु, बाक़ियों को भक्त बुलाया जाए

गुरु का काम था देना प्रवचन सुबह और शाम, ले के प्रभु का नाम,

भक्त प्रवचनों पे अमल करते, जो ना ले प्रभु ना नाम उससे लड़ते

 

IMG_9720

 

ऐलान हुआ सिर्फ़ आम ही पेड़ पर उगेगा और कोई फल नहीं,

पेड़ सारे बाक़ी लिटाए जाने लगे, जो ना लेते कटवाए जाने लगे

बाक़ी फलों को ये बात खलने लगी, बदले की आग जलने लगी,

सब हुए एकजुट, गन्ने को चुना प्रधान, आगे सुनाऊँ या ख़ुद ही लेंगें जान

आम का पलट वॉर, सब गुठली वालों को भाईबहन बना लिया, लगाया घाव,

नफरतों का बो दिया बीज वहां जहाँ बीज ही नहीं थे, खेला कमल का दाँव

 

अब सब गुठलियाँ एक और, दूसरी और बेचारे गिने चुने केले, गन्ने वगैरहा,

यही होता हैं ना खास होने का मज़ा मसल दो पीस दो जो मांगे कोई जगह

वही किस्साहर आम खास होना चाहता है हर खास खास रहना चाहता है,

आम और खास की युगोंयुगों की लड़ाई, हर दौर में जाती है दोहराई

अब फल हटा कर जानवर लगाओ या फूल पत्तों को लड़वाओ,

कुछ ना बदलेगा, खास खास रहेगा और बेमौत हर बार आम ही मरेगा

~ डिवाईडर…

IMG_0685

ये जो शहर कि सड़क है ना, ये हम तुम हैं,

इस सड़क, यानी की हमारे चेहरे की झुर्रियाँ फ़ुटपाथ,

और इस फ़ुटपाथ के होंठ भी हैडिवाईडर,

अक्सर गुलाबी हो जाते हैं ये डिवाईडर,

कभी एक, कभी दो पाँच साल में पक्का नहीं तो,

जब चुनाव आने को होता है

 

साल दर साल हमारी तर्रक्की के निशान, डिवाईडर,

ठीक ठाक दिखते होते नहीं हैं हम,

तोड़े फिर काम चलाऊ जोड़े जाते हम,

आगे बड़ रहे चुनाव के चक्कर में हथोडे पड़ रहे,

हमारी हालत का अंदाज़ा नेता सिर्फ़ डिवाईडर से लगाते,

जो फ़ुटपाथ डिवाईडर सँवर रहे, मतलब नेताजी चुनाव लड़ रहे

 

धूल मिट्टी चाट चाट एक रंग की हो गए,

एक सफ़ेद एक काला फिर एक सफ़ेद फिर एक काला,

कहीं सफ़ेद पिले का जोड़ा कहीं काले पिले का,

वक़्त की धूल सारे भेद भाव मिटाती रहती,

लो फिर जैसे ही हुई घोषणा चुनाव है,

सरकार हमें तोड़ती, फिर बड़े भाव से भेद भाव ओड़ती

 

ना देश बदलता ना बदलते सड़कों के हालात,

डिवाइड एंड रुल बदल डिवाईडर हो गया है,

बार बार बदला जा रहा है,

इसी पैसे से फिर चुनाव लड़ा जा रहा है,

नेताजी के पिताजी के मामाजी के बेटे, कांट्रैक्टर हैं,

पहले कंडक्टर थे और अब सेमीकंडक्टर

 

कल बारिश में मुझमें फिर जगह जगह पानी भर गया,

डिवाईडर जो कल बना था जगह जगह से आज उखड़ गया,

मेरे होठों का काला पीला सफ़ेद जगह जगह से फीका पड़ गया,

नेताजी के पिताजी के मामाजी का बेटा, वही सेमीकंडक्टर,

जगह जगह आज उसका अपना मकान है,

यहाँ हर फ़ुटपाथ शमशान और मेरा भारत महान है

~ आँच…

IMG_0643

सुनो आँच ज़रा धीमी कर दो, चावल देर से पकेंगे,

और हम कुछ और देर तलक साथ लिपट लेंगे

कुछ कहना नहीं, आज तुमने फिर पाज़ेब को पहना नहीं,

चावलों को धीरेधीरे पकने दो, कुछ और देर सर रखने दो

थोड़ा सा होंठों में फाँसला करो, जो जगह मिलेगी,

आज कच्चे चावल खिला देना, मेरे होठों को चबा देना

बीचबीच में आँखें मुँदना, आज चावलों का पानी पिला देना,

तुम कूदना और मुझे फाँदने की वजह देना

आज ख़्वाब सज़ा लेते है, रहने दो चावल, रात भर पका लेते है,

पकने दो उन्हें भी, जगने दो हमें भीसहर तक, दोपहर तक